आगरा में पालीवाल पार्क के पास कूड़े का ढेर हो रही अष्ट धातु की बेशकीमती है मूर्तियां

0
29

आगरा न्यूज़ : आगरा जनपद के ब्रिटिश काल में जीवनी मंडी क्षेत्र के पास जॉन्स मिलो का बोलबाला था मेजर जॉन से सन 1922 में इवेंट पार्क यानी कि पालीवाल पार्क के पास एक जॉन्स पुस्तकालय की स्थापना की थी और सन 1901 में उस स्थान पर महारानी विक्टोरिया की मूर्तियों को स्कॉटलैंड से आगरा 1901 में लाया गया था और तब से लेकर आज तक इन बेशकीमती मूर्तियों की बेकद्री हो रही है आज के वक्त में इन अष्ट धातु मूर्तियों की कीमत कई करोड़ों में है.

1901 में आगरा आई थी यह मूर्तियां:

इतिहास राजकुमार राजे बताते हैं कि एक वक्त था कि महारानी विक्टोरिया का पूरे विश्व में बोलबाला था तब 1901 में स्कॉटलैंड में तैयार हुई थी 7 मूर्तियों का सेट आगरा लाया था।

अष्ट धातु की बेशकीमती है मूर्तियां:

पालीवाल पार्क के पास कूड़े में पड़ी यह मूर्तियां आज के वक्त में कई करोड़ों की मूर्तियां है यह अष्ठधातु से बनी हुई मूर्तियां है स्कॉटलैंड में इन मूर्तियों को तैयार किया गया था जिसमें एक मूर्ति महारानी विक्टोरिया की एक उनके धर्मगुरु की और तीसरी उनके सेनापति बाकी चार मूर्तियां मछलियों की है जिनकी कीमत आज के वक्त में 10 करोड़ तक की होंगी।

नही मिल रहा इन मूर्तियों को स्थान:

1901 में जब यह मूर्तियां आगरा आई थी तो विक्टोरिया पार्क में स्थापित की गई थी जिसके बाद उन मूर्तियों को वहां से हटाकर आगरा के पुलिस लाइन स्थित फायर ब्रिगेड में स्थापित किया गया 40 साल तक यह मूर्तियां वहां पर ही रहे उसके बाद यह मूर्ति आगरा के पालीवाल पार्क पर लाई गई जो मूर्ति स्थापित की गई तो आए दिन मूर्तियों को तोड़े जाने की खबरें सामने आने लगी जिससे हर से हटा कर रख दिया गया।

सुरक्षा के लिए चार सिपाही तैनात:

राजकुमार राजे बताते हैं कि मूर्तियां बेशकीमती हैं इसलिए चोरी ना हो जाए इसलिए चार सिपाहियों की तैनाती की गई है जो 24 घंटे इन मूर्तियों की रखवाली करते हैं कि मूर्तियों को ना कोई हाथ लगा सके ना कोई चला सके लेकिन धीरे-धीरे मूर्तियों को तोड़कर उसमें से कुछ से निकाल कर बेचे जा रहे हैं और किसी प्रशासन का ध्यान नहीं जा रहा है।

नगर निगम अंडर में आती हैं यह जगह:

सुरेन्द्र प्रसाद यादव बताते हैं कि कमिश्नर से बात हो चुकी है जल्द ही इनके जीव उद्धार के लिए कार्य कराया जाएगा या मूर्तियां नगर निगम के अंतर्गत आती है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here