21अप्रैल को गुरु तेग बहादुर जी का 400 वा प्रकाश वर्ष पूरे देश मनाया जा रहा है 

आगरा से भी गुरु तेग बहादुर जी का लगाव है 1675 ईसवी में गुरु तेग बहादुर जी ककरेटा गांव के मुगल बगीची पर ठहरे थे जो कि आज इस स्थान पर गुरु का ताल गुरु द्वारा बन चुका है 

गुरु तेग बहादुर जी को ककरेटा गांव के मुगल बगीची उनके दास हसन अली ने नजरबंद रखा थाक्योंकि औरंगजेब ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए थे क्योंकि औरंगजेब शासन में हिंदुओं पर काफी अत्याचार किया जा रहा था


कश्मीरी पंडितो पर इस्लाम अपनाने के लिए डाला जा रहा था दबाब इस्लाम धर्म अपनाने को लेकर कश्मीरी ब्राह्मण गुरु तेग बहादुर जी की शरण में गए

उनसे अपने बचाव के लिए अरदास लगाई तो गुरु तेग बहादुर जी ने ऐलान करवाया था कि यदि मैंने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया तो समझ लो हिंदुस्तान की सभी हिंदुओं ने इस्लाम धर्म कबूल कर लिया

इसी वजह से औरंगजेब ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए थे जो भी उनको पकड़ के देगा उन्हे 500 मोहर दी जायेंगी

गुरु के ताल पर उनको नजरबंद रखा यही से उनकी गिरफ्तारी हुई थी। जिसके बाद उनको दिल्ली ले जाकर शहीद कर दिया गया

गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व पर लाल किले में 400 रागियों ने शबद कीर्तन किया